राज्यपाल राष्ट्रीय कृषि मेला के समापन समारोह में हुई शामिल

राष्ट्रीय कृषि मेला-2020

धान की खेती के साथ बाजार के मांग के अनुरूप अन्य फसलों की भी खेती करें और खेती को लाभ का धंधा बनाएं : सुश्री उइके

राष्ट्रीय कृषि मेला-2020 रायपुर – राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने कहा कि धान की खेती के साथ ही बाजार की मांग के अनुसार अन्य फसलों की भी खेती करें। साथ ही कृषि से जुड़े पशुपालन, मत्स्य पालन, मुर्गी पालन और मधुमक्खी पालन आदि कर अपनी आमदनी बढ़ाएं और खेती को लाभ का धंधा बनाएं। राज्यपाल सुश्री उइके जी गत दिवस तुलसी बाराडेरा रायपुर में आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय कृषि मेला के समापन समारोह को संबोधित कर रही थी। उन्होंने मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल, कृषि मंत्री श्री रविन्द्र चौबे को किसानों को धान का उचित मूल्य देने के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि वे छत्तीसगढ़ में बायोटिक स्ट्रेस सेंटर प्रारंभ करने के लिए केन्द्रीय कृषि मंत्री को पत्र लिखेंगी। मेले में राज्यपाल सहित अन्य अतिथियों ने ड्रोन के माध्यम से दवाई छिड़काव का अवलोकन किया।

राष्ट्रीय कृषि मेला-2020 उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री कृषि सम्मान निधि से प्रदेश के किसानों को सहायता प्राप्त हो रही है। जिन आदिवासियों को वन अधिकार पट्टा प्राप्त हुआ है उन्हें भी इसका लाभ मिलना चाहिए। इस मेले में मुझे ऐसे नये तकनीक देखने को मिली जिसे किसान अपनाकर कृषि को लाभकारी बना सकते हैं।

राज्यपाल सुश्री उइके ने कहा कि हमारा किसान आर्थिक रूप से सशक्त हो, इसके लिए आवश्यक है कि उन्हें उनकी उपज का उचित और लाभदायक प्रतिफल प्राप्त हो। कृषि उत्पादन से लेकर अंतिम उपभोक्ता तक पहुँचने के बीच में होने वाले नुकसान को कम किया जाए। बेहतर बाजार व्यवस्था, फसल कटाई के बाद की सुविधाओं का विस्तार और प्रोसेसिंग सुविधाओं के जरिए इन नुकसानों को कम किया जा सकता है। इससे किसानों को बाजार के अनुरूप और सही कीमत प्राप्त होगी। उन्होंने कहा कि कृषि उत्पादों पर आधारित छोटे-छोटे कोल्ड स्टोरेज और प्रसंस्करण केन्द्र स्थापित किया जाना चाहिए, इससे अधिक उत्पादन की स्थिति में उत्पादों को सुरक्षित रखकर बाद में उनका सदुपयोग होगा और रोजगार भी मिलेगा।

राज्यपाल ने कहा कि छत्तीसगढ़ के खेतों की मिट्टी और पर्यावरण के अनुरूप खासकर पेडी ट्रांसप्लांटर, रिपर एवं हार्वेस्टर आदि उन्नत कृषि उपकरण विकसित किये जाने की आवश्यकता है, जो किसानों को न्यूनतम कीमत पर उपलब्ध हो।

राष्ट्रीय कृषि मेला-2020 विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कृषि की अपार संभावना है। ऐसे कार्यक्रम से किसानों को लाभ होगा। उन्होंने कहा कि मैनपाट और जशपुर में आलु उत्पादन की अनुकूल पस्थितियां हैं। यदि प्रयास किया जाए तो वहां पर आलु की अच्छी पैदावार हो सकती है। उन्होंने कहा कि अपने केन्द्रीय कृषि मंत्री के कार्यकाल के दौरान करीब दो सौ करोड़ का बायोटिक स्ट्रेस सेंटर स्वीकृत कराया था, जो अभी तक प्रारंभ नहीं हो पाया है, इसके लिए प्रयास किये जाने की आवश्यकता है। उन्होंने राज्यपाल महोदया से भी सहयोग करने का आग्रह किया। श्री महंत ने कहा कि इसके साथ ही कुल 6 मेगा फुड पार्क भी स्वीकृत कराए गए थे। इसके प्रारंभ हो जाने से कई लोगों को रोजगार मिलेगा और यहां पर कृषि की उन्नति का मार्ग प्रशस्त होगा। उन्होंने प्रदेश में फूलों की खेती और गुजरात के आनंद की तर्ज पर दुग्ध उत्पादन पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में किसान मक्के की अच्छा पैदावार कर रहे हैं, उन्हें भी धान की तरह अच्छा मूल्य दिया जा सकता है।

कृषि मंत्री श्री रवीन्द्र चौबे ने कहा कि इस मेले में उन्नत तकनीक, बीज एवं कृषि विभाग द्वारा विभिन्न योजनाओं के स्टाल लगाए गए हैं। इससे प्रदेश के किसान लाभान्वित होंगे। उन्होंने कहा कि राज्य शासन की प्राथमिकता में कृषि है। इसी मंशा के अनुरूप 25 सौ रूपए प्रति क्विंटल धान की खरीदी की गई है, जो पूरे देश में सबसे अधिक है। यदि छत्तीसगढ़ का विकास करना है तो हमें कृषि का विकास करना होगा। इसके लिए विभिन्न सिंचाई योजनाओं का भी विस्तार किया जाएगा। इससे हमारे प्रदेश के किसान निश्चित ही खुशहाल होंगे और ‘गढ़बों नवा छत्तीसगढ़’ की संकल्पना को साकार कर पाएंगे।

कार्यक्रम में मछली पालन विभाग द्वारा नील क्रांति योजना के अन्तर्गत निजी क्षेत्र में फिश फीड मील की अन्य इकाई की स्थापना के लिए ग्राम-मेहरसखा, विकासखण्ड-धरसीवां, जिला रायपुर के श्री अभिजीत सिंह को 80 लाख रूपए के अनुदान में प्रथम किस्त के रूप में 40 लाख रूपए की राशि, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत महासमुंद जिले के दुग्ध उत्पादक सहकारी समिति मर्यादित गोडबहाल के अध्यक्ष श्री सादराम पटेल को 25 लाख रूपए की ऋण स्वीकृति पत्र प्रदान किया गया। इसी तरह बिलासपुर के श्रीमती सुमन अवस्थी को शहद की प्रासेसिंग यूनिट के लिए 25 लाख रूपए का ऋण स्वीकृति प्रदान किया गया। इसमें 35 प्रतिशत अनुदान राशि के रूप में दी गई है। स्कूल शिक्षा मंत्री श्री प्रेमसाय सिंह टेकाम, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री रूद्रगुरू ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। इस अवसर पर आबकारी मंत्री श्री कवासी लखमा, राजस्व मंत्री श्री जयसिंह अग्रवाल, विधायक श्री मोहन मरकाम, श्री धनेश्वर साहू, श्री कृष्णमूर्ति बांधी और श्रीमती लक्ष्मी ध्रुव, कृषि उत्पादन आयुक्त श्रीमती मनिंदर कौर द्विवेदी, कृषि विभाग के सचिव श्री धनंजय देवांगन, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एस.के. पाटिल सहित अन्य कृषकगण उपस्थित थे।